Saturday, September 19, 2009

"प्रकृति का सत्य-रूप"

पदार्थ : MATTER

सृष्टी जो हमारे इर्द-गिर्द फेली होई हे , वो स्वतंत्र रूप से आभासित हो रही हे ,जिस कारण हम
उसको जान पाते हैं ! पदार्थ का ये गुण हे की वह ,अपने आप को बाहर आभासित करवाता हे,
जिसके कारण हम इन्द्रियों द्वारा पदार्थ को जान पाते हैं !
The universe spread all around us, is freely appearing in itself ,
because of which we know it. It is the property of MATTER that
it let itself APPEAR EXTERNALLY , because of which we know the
matter by our SENSES.
मेरे दोस्त मेरा ऐसा मानना हे कि जैसे मनुष्य मै शारीर वा आत्मा होती हे
और आत्मा का प्रकाश ( उपस्थिति )इन्द्रियों को कार्य के लिए प्रेरित करता हे
ठीक इसीप्रकार पदार्थ मै भी जड़ वा चेतनता होती हे !पदार्थ कि जड़ता उसके
गुणों के कारण हे ,जबकि पदार्थ कि चेतनता पदार्थ के गुणों को एक शारीर
बन 'स्थिरता' देता हे ! पदार्थ मै चेतनता कि उपस्थिति ही ,पदार्थ को लक्षणों द्वारा 
 "स्वतंत्र आभासित' करवाती हे !
उदाहरण के लिए :
'Black Hole' मै सभी पदार्थ मृत्यु को प्राप्त कर विज्ञानं की पकड़ मै नष्ट हो जाते हैं !
हम ये भी जानते हैं पदार्थ कभी भी नष्ट नहीं हो सकता बलिक अपना रूप ही बदलता हे !
अंततः हमने समझा की पदार्थ स्वरुप बदलता हुआ जब Black Hole मै मृत्यु को प्राप्त
करता हे ! वह अपने चेतन-तत्व को खो देता हे , तब वह अपने को 'स्वतंत्र आभासित'
नहीं कर पाते हैं , ठीक उसी प्रकार जैसे मनुष्य मृत्यु को प्राप्त कर आत्मा को खो ,
शारीर से क्रियाशील नहीं रहता !


My friend , Im of this opinion that as the human being has body and
soul in it ,in the same way , MATTER has body and LIVINGness in it .
The body of Matter causes PROPERTIES in it, where as the LIVINGness
in matter 'stablises' the properties in the body of Matter ,and causes Matter to 'appear freely' through its charactertics.
As for example :By attaining DEATH in reaching BLACK HOLE, each Matter
VANISHES from the eye of science.We also that Matter can never be destroyed ,rather it changes its FORM.In the end we understand it
that MATTER by achieving DEATH in BLACK HOLE it looses LIVINGNESS and that disqualify it to APPEAR EXTERNALLY.

Friday, September 18, 2009

" भीतर की आंखे "



आत्मा को सर्व-व्यापी , अविनाशी , तथा अचल अर्थात क्रिया-रहित माना गया हे ,

इसी प्रकार जगत को आत्मा से विपरीत नाशवान और चलायमान माना गया हे !

जो मनुष्य इस सत्य को समझ कर, स्वीकार कर लेता हे वो विवेकी कहलाता हे !

आत्मा और जगत मै जोभी तालमेल बैठता हे वह अंतःकरण के प्रभाव से होता हे !

आत्मा-ओजः संग ले, मन-बुधी-चित-अंहकार को प्रकाशित करना ही अंतःकरण हे !

अन्तःकरण के तीन दोष हैं आवरण, विक्षेप वा मल् जिस कारण"भेद" बना रहता हे !

"भेद" अर्थात आत्मा को ब्रह्म-सामान मान, विशाल प्रकृति को उससे अलग मानता हे !

जब सत्व-गुणी मै विवेक अपना प्रभाव दिखता हे तब ये "भेद" खुद ही मिट जाता हे !



प्रकृति को देख उसके सत्य स्वरुप का ज्ञान ना दे ,

उसके प्रकाशित गुणों को ही बुधी तक पहुँचाना ,

इसको आवरण कहते हैं जो विवेक से हटता हे !

उपासना से अंतःकरण पर विक्षेप दोष दूर होता हे,

जिससे हमारे भीतर "भावः" की उत्पत्ति होती हे !

निष्काम कर्म करने से अंतःकरण से "मल्" दोष का

निवारण होता हे, जो मन के विकार-बंधन कटता हे !



....दीप

Tuesday, September 15, 2009

"पहचान"






एक बूंद
पूछती हे सागर से
मेरी पहचान क्या हे ?

सागर मुस्कराया ,
बूंद को बुलाया ,
और बोला ....
मेरे आगोश मै आ जाओ ;
बूंद थोडी झिझ्कायी ,
कुछ समझ ना पाई ,
फिर भी पूछ ही लिया
आखिर क्यों ?
सागर भी थोडा सकपकाया ,
फिर बाजुओं को फेलाया ...
और बोला .....
जब तुम मुझ मै समाती हो ,
लगता हे तुम्हे खुद मै मिट जाती हो ,
हिम्मत कर जब विलय कर पाती हो ,
फिर अचम्भित सी सब समझ जाती हो ,
जब आगोश मै तुम अपने मुझको पाती हो ,
खुद की पहचान पाकर, मुझको भी पहचान दे जाती हो !

*....दीप*